दीवारों में भी सोना फर्श के नीचे भी सोना, सर्राफ के घर सोना ही सोना

0
53

100 किलोग्राम से भी अधिक मात्रा में मिला सोना करोड़ों की नकदी भी हुई बरामद

सर्राफ के यहां आयकर विभाग की कार्यवाही पूरी

मेरठ। इनकम टैक्स की छापेमारी में मेरठ के सर्राफ के घर से एक कुंतल से अधिक सोना मिला है।

इनकम टैक्स विभाग की टीम ने घर की दीवारों और फर्श काे ताेड़कर साेना निकालना पड़ा। सर्राफ के यहां से साेने के अलावा कराेड़ाें रुपये की बेनामी की संपत्ति भी मिली है। दो दिन चली छापेमारी में करोड़ों की बेनामी संपत्ति के कागज़ात भी मिले हैं।

मेरठ में प्रसिद्ध सर्राफ खेमचंद्र पवन कुमार के घर से आयकर विभाग की छापेमारी में (100) किलो से अधिक सोना और करोडों की बेनामी संपत्ति मिली है इस संपत्ति के बारे में सर्राफ आयकर विभाग (IncomeTax) को कोई खास जानकारी नहीं दे सके। कानपुर से आई आयकर विभाग की टीम ने उनके घर में दाे दिन तक छापेमारी की। फर्श और दीवारें तोड़कर सोना निकाला गया।

सूत्रों के मुताबिक आयकर विभाग की टीम को सोना बरामद करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। टीम में आए सदस्यों ने फर्श तोड़ने के लिए मजदूरों को बुलाया जिसके बाद प्रतिष्ठानों के फर्श तोडे़ गए और दीवारों तक को तोड़ा गया। बताया जाता है कि सोना फर्श और दीवारों के बीच छिपाकर रखा हुआ था। बेनामी संपत्ति सर्राफ ने दिल्ली, नोएडा,और प्रदेश, के अन्य जिलों के अलावा दूसरे राज्यों में भी खरीदी हुई है।

बता दें कि मेरठ के बडे़ सोना कारोबारियों में शुमार खेमचंद पवन कुमार सरार्फ प्राइवेट लिमिटेड के (22) ठिकानों पर आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने एक साथ छापेमारी की थी छापेमारी की यह कार्यवाई 40 घंटे से भी अधिक समय तक चली। आय से अधिक संपत्ति के मामले में कानपुर से डिप्टी डायरेक्टर (आयकर) के नेतृत्व में टीम ने सदर बाजार स्थित दो प्रतिष्ठानों, वेस्ट एंड रोड व विश्व एन्क्लेव स्थित कोठी और तेजपाल एंक्लेव स्थित व्यापारी के सीए के घर पर जांच की छापेमार टीम ने सर्राफ के दिल्ली स्थित फर्म से महत्वपूर्ण दस्तावेज जुटाए।

देर रात तक कारोबारी की दुकान और घर दोनों जगह टीम की कार्रवाई चली। कार्रवाई में दिल्ली और गाजियाबाद के अधिकारी भी शामिल रहे। देर शाम मेरठ से सहायक निदेशक (सिस्टम) राजीव प्रसाद के नेतृत्व में कुछ और अधिकारी कार्रवाई में शामिल हुए। आयकर विभाग के अधिकारी सर्राफ के घर और उनके प्रतिष्ठान में छापेमार कार्रवाई के लिए दो दर्जन से अधिक गाडियों में आए थे। टीम ने सर्राफ के सभी प्रतिष्ठानों पर एक साथ छापेमार कार्रवाई के अंजाम दिया।

बताया जाता है कि किसी सर्राफ के घर और प्रतिष्ठानों पर आयकर विभाग की यह सबसे बड़ी कार्रवाई है इससे पहले मेरठ के इतिहास में इतनी बड़ी कार्रवाई किसी सर्राफ के ठिकानों पर नहीं हुई।

पवन कुमार जैन पेशे से सरार्फ और शहर के बड़े बिल्डर हैं। बताया जाता है कि मोदीपुरम टोल प्लाजा, पांडव नगर, मोदीनगर में मोदीकॉन, नमोकार वाटिका सहित दर्जनों जगहों पर उन्होंने करोड़ों का निवेश किया हुआ है। उनकी फर्म हीरे, सोने और चांदी के गहनों की सप्लाई पश्चिमी उप्र, दिल्ली के अलावा कई अन्य प्रदेशों में करती है इसके अलावा विदेशों से भी वे भी सोने की खरीद-फरोख्त का काम करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here