बागेश्वर में बड़ी बहन के फरार होने पर नाबालिग की कराई जा रही थी शादी, पुलिस ने रूकवाई

0
90

देहरादून। प्रदेश के बागेश्वर जिले में बड़ी बहन शादी से कुछ देर पहले ही प्रेमी संग घर से फरार हो गई। बेटी के फरार हो जाने के बाद लोक लाज के डर से परिजनों ने नाबालिग बेटी को ही शादी के मंडप में बैठाने की तैयारी कर ली। नाबालिग के विवाह की जानकारी मिलते ही पुलिस ने रस्में शुरू होने से पहले ही मौके पर पहुंचकर विवाह रूकवा दिया। राजस्व पुलिस क्षेत्र अमसरकोट के एक गांव में शादी से कुछ घंटे पहले दुल्हन अपने प्रेमी के साथ भाग गई। लोकलाज के डर से परिवार वालों ने दुल्हन की जगह अपनी नाबालिग बेटी को विवाह के मंडप में बैठा दिया। लेकिन शादी की रस्में होने से पहले ही पुलिस और वन स्टॉप सेंटर के कर्मचारियों ने पहुंचकर नाबालिग की शादी होने से रुकवा दी।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, बागेश्वर जिले के दफौट क्षेत्र से बारात अमसरकोट क्षेत्र के एक गांव में गई थी। वहां विवाह की रस्में पूरी कराने की तैयारी चल रही थी। इसी बीच स्थानीय पुलिस और वन स्टॉप सेंटर को सूचना मिली कि गांव में नाबालिग लड़की की शादी करायी जा रही है। सूचना पर पुलिस और वन स्टॉप सेंटर की संयुक्त टीम तत्काल मौके पर पहुंची और विवाह के लिए तैयार की गई बेटी के स्कूल के कागजात की जांच की तो यह लड़की नाबालिग पायी गई। संयुक्त टीम ने लड़की के परिजनों को समझाकर यह शादी रुकवा दी। काउंसलिंग के बाद लड़की के परिजनों ने टीम को लिखकर दिया कि वे अपनी इस बेटी का विवाह इसके बालिग होने पर ही करेंगे।

पुलिस ने बताया कि यह विवाह, नाबालिग की बड़ी बहन के साथ होना तय था। लेकिन दुल्हन शादी के कुछ घंटे पहले ही अपने प्रेमी के साथ भाग गई। परिवार के लोगों ने लोकलाज डर से अपनी छोटी बेटी को विवाह के मंडप में बैठा दिया। लेकिन शादी की रस्में होने से पहले ही संयुक्त टीम ने मौके पर पहुंचकर नाबालिग की शादी रुकवा दी। दफौट क्षेत्र से बारात लेकर आये दूल्हा पक्ष को बिना दुल्हन के बैरंग लौटना पड़ा। इधर, अपने प्रेमी के साथ भागी दुल्हन पक्ष के लोगों ने पुलिस में बेटी की गुमशुदगी दर्ज कराई है। उधर, कोतवाल जगदीश ढकरियाल ने कहा कि यह घटना राजस्व पुलिस क्षेत्र की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here