भाजपा प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार करेंगे विधायक एवं पार्टी नेताओं में हुई भिडंत की जांच

0
76

देहरादून। पिछले कुछ दिनों से देहरादून जिले की रायपुर विधानसभा सीट उत्त्तराखण्ड की राजनीति में सबसे ज्यादा चर्चित बनी हुई है। कारण है इस सीट पर भाजपाइयों की आये दिन होने वाली अंतर्कलह। शनिवार जो घटना रायपुर में हुई उसने तो मानो सारी लड़ाई को ही सतह पर ला दिया है। कुल मिलाकर इस सीट पर भाजपाइयों व विधायक काऊ की एक दूसरे के खिलाफ भरी कड़वाहट अब पूरी तरह से सामने है। देखने लायक होगा कि भाजपा आलाकमान इतना सब कुछ होने के बाद भी यहां कोई एक्शन लेता है या नहीं।

रायपुर विधानसभा सीट जितनी विधायक काऊ के लिहाज से मजबूत है तो पार्टी के नजरिये से उतनी ही कमजोर। अब तक तो केवल काऊ के खिलाफ यहां गुटों में बंटी भाजपा कार्यकर्ताओं के स्वर मुखर हुआ करते थे लेकिन शनिवार को पहली बार ऐसा देखा गया कि बीते दो तीन सालों से यहां अपने खिलाफ रंजिश देखते आये काऊ का मुँह भी जमकर खुल गया और वह एक भाजपाई नेता को कैबिनेट मंत्री के सामने ही औकात में रहने की बात कहते दिखे। जाहिर है ये काऊ के अंदर भरा गुस्सा ही था जो एकाएक स्वतः ही बाहर आ गया। वहीं, इस गुस्से के बाहर आने के बाद यह भी जाहिर हुआ है कि जो काऊ एक समय मे उस सीट पर हर परिस्थिति में अजेय नजर आते थे, अब ऐसा नहीं है। पार्टी के दो धड़ों में बंटे होने का नतीजा है कि अब काऊ भी अपनी छटपटाहट दिखा रहे हैं।

यूं भी बीते हफ्ते ही जिस तरह कांग्रेस ने यहां महेंद्र नेगी गुरुजी को अपने पाले में किया है उससे यहां भाजपा कमजोर ही हुई है। वहीं, यह संदेश स्पष्ट गया है कि भाजपा में यहां बहुत कुछ गड़बड़ चल रहा है।

कुलदीप कुमार करेंगे जांच
उत्तराखंड भाजपा से बड़ी खबर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में रायपुर विधायक उमेश शर्मा काऊ और बीजेपी कार्यकर्ता के बीच हुई भिड़ंत का संज्ञान लिया है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार को पूरे मामले की जांच करने के निर्देश दिए हैं। यानी कि जो घटनाक्रम मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के शामिल होने से पहले घटा उसकी जांच भाजपा प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार करेंगे

भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ जिस तरह से वीडियो में पार्टी के दूसरे धडे़ को औकात में रहने, कार्यक्रम में उन्हें आमंत्रित ना करने और उच्च शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम को खुद का कार्यक्रम बता रहे हैं उससे पार्टी में उनके व्यवहार की चर्चा हो रही है। पार्टी नेताओं का मानना है कि विधायक का व्यवहार ठीक नहीं है। वहीं कैबिनेट मंत्री के साथ जिस तरीके का रवैया विधायक का रहा वह भी शायद हाईकमान को नागवार लग रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here