हरियाणा में सरकार पर मंडराया संकट, BJP- JJP टूट के कगार पर

0
54

हरियाणा में सियासी भूचाल आ गया है. बीजेपी-जेजेपी का गठबंधन लगभग टूट गया है बस इसका ऐलान होना बाकी है. वहीं JJP भी दो फाड़ होती दिख रही है जिसके 4या 5 विधायक बीजेपी के सम्पर्क में हैं। जिनकी मदद से हरियाणा में नई सरकार का गठन होगा.

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ऐन पहले हरियाणा में बीजेपी-जेजेपी (BJP-JJP) का गठबंधन लगभग टूटने की कगार पर है. सूत्र बता रहे हैं कि मनोहर लाल खट्टर सरकार के सभी मंत्री एक साथ इस्तीफा देंगे. इसके बाद हरियाणा में नए सिरे से सरकार का गठन किया जाएगा. ऐसे में सूत्रों का कहना है कि नई सरकार में संजय भाटिया को मुख्यमंत्री और नायब सैनी को उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

वर्तमान में संजय भाटिया करनाल से सांसद है. उनकी जगह करनाल से मनोहर लाल खट्टर को लोकसभा चुनाव लड़ाया जा सकता है. लोकसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री एमएल खट्टर को संगठन या सरकार में कोई बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है. उधर, ये भी कहा जा रहा है कि अगर गठबंधन टूटा तो जेजेपी के 4-5 विधायक टूट कर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

गठबंधन के टूटने के बाद हरियाणा में बीजेपी की निर्दलीयों के समर्थन से सरकार बनने की बात कही जा रही है. सूत्रों के मुताबिक, दोपहर बाद बीजेपी के सभी विधायक राजभवन में पहुंचेंगे. बीजेपी विधायकों के अलावा सरकार समर्थित निर्दलीय विधायक भी राजभवन पहुंचेंगे. हरियाणा राजभवन में अंदर बने कॉन्फ्रेंस रूम में शपथ ग्रहण समारोह की तैयारी की गई है।

हरियाणा में हो रहे राजनीतिक घटनाक्रम पर कांग्रेस की भी नजर है. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा में नेता विपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा दिल्ली में मौजूद है. पूरे राजनीतिक हालात पर नजर बनाए हुए हैं।

जेजेपी के 10 विधायक में से 5 चंडीगढ़ पहुंचे. जेजेपी विधायक देवेंद्र बबली, ईश्वर सिंह, रामनिवास, जोगीराम और दादा गौतम चंडीगढ़ पहुंचे हैं.
दुष्यंत चौटाला को बतौर डिप्टी सीएम मिली सारी सुविधाएं वापस ले जाएगी. अगर मनोहरलाल खट्टर विधायक दल के नेता नहीं बनते हैं तो पार्टी उन्हें करनाल से लोकसभा का चुनाव लड़ा सकती है।

उधर, ये भी कहा जा रहा है कि अगर गठबंधन टूटा तो जेजेपी के 4-5 विधायक टूट कर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. सरकार को दोबारा गठित होने पर मनोहर लाल दोबारा भी सीएम बनाए जा सकते हैं. जेजेपी के चार से पांच विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं और इस वक्त वे चंडीगढ़ में मौजूद हैं। बताया जा रहा है कि दिल्ली में बुलाई गई मीटिंग में ये चार से पांच विधायक नहीं पहुंचे।

हरियाणा विधानसभा का गणित
हरियाणा विधानसभा में 90 सीटें हैं.
बीजेपी के पास 41,
जेजेपी के 10
कांग्रेस के 30 विधायक हैं.
इसके अलावा निर्दलीय 7,
हरियाणा लोकहित पार्टी 1
1 इंडियन नेशनल लोकदल का विधायक है।
विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 48 है.
7 निर्दलीय विधायकों में से 6 बीजेपी के साथ हैं. गोपाल कांडा की हरियाणा लोकहित पार्टी भी बीजेपी के साथ है. यानी बीजेपी को कुल 48 विधायकों का साथ है, जो बहुमत के आंकड़े से ज्यादा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here