एम्स निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए दिए टिप्स

0
233

नई दिल्ली। ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के डायरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने शुक्रवार को कोरोना के लक्षणों, इलाज, होम आइसोलेशन समेत कई अहम पहलूओं पर विस्तार से बात की। उन्होंने विस्तार से समझाया कि होम आइसोलेशन में क्या करें, क्या न करें, रेमडेसिविर या आइवरमेक्टिन कब लें, इनहेलर से फायदा है या नहीं, ऑक्सिजन की कब जरूरत होगी। एम्स डायरेक्टर ने यह भी बताया कि वॉर्निंग साइन क्या हैं यानी ऐसे कौन से संकेत है जिन्हें मरीज में देखने के बाद तत्काल संभलने और अस्पताल का रुख करने की जरूरत होती है।

यहां यह बात ध्यान देने की जरूरत है कि खुद ही डॉक्टर न बनें और सुझाई गई दवाओं का वैसे ही सेवन न करें। इसके लिए डॉक्टर से परामर्श बहुत जरूरी है, भले ही वह फोन पर ली गई हो या फिर ऑनलाइन कंसल्टेशन हो।
जो हम आम लक्षण देखते हैं कोविड में वो हैं- बुखार, जुकाम, नजला, गले में खराश, खांसी है। ऐसे में बुखार के लिए पैरासेटमॉल, जुकाम के लिए एंटी एलर्जिक ले लें कोई, खांसी के लिए कोई भी कफ सिरफ ले लें। साथ में नमक के गरारे और भांप ले सकते हैं दिन में दो दफा। इससे कई मरीजों को आराम मिलता है।

कई मरीज ऐसे हैं जो कह रहे हैं कि पैरासेटमॉल से उनका बुखार नीचे नहीं आ रहा। 101-102 डिग्री बुखार रह रहा है। अगर आपका बुखार पैरासेटमॉल-650 से कम नहीं हो रहा है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। वह कोई नेप्रोक्सॉन जैसी कोई दवा दे सकते हैं जो लंबे वक्त तक लगातार बुखार के केस में दी जाती हैं।
जिन मरीजों को बुखार या खांसी 5 दिनों से ज्यादा वक्त से है और ठीक नहीं हो रही, वे इनहेलर ले सकते हैं जिससे आराम मिलता है। बुडेसोनाइड की 800 माइक्रोग्राम दिन में 2 बार 5 से 7 दिन या 10 दिनों तक इनहेलर के जरिए ले सकते हैं। ये दवा फेंफड़े में जाकर आराम देते हैं।

रेमडेसिविर को घर पर बिल्कुल न लें। इस दवा के अपने साइडइफेक्ट्स हैं और सिर्फ अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए यह दवा एडवाइज की जा रही है। पहले भी कहा है, आज भी कहना चाहूंगा कि रेमडेसिविर होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों यानी माइल्ड इन्फेक्शन या एसिम्प्टोमैटिक (बिना लक्षण वाले) मरीजों के लिए बिल्कुल फायदेमंद नहीं है बल्कि इसके नुकसान ही हैं। इसलिए घर पर रेमडेसिविर बिल्कुल न लें।
अगर आपको लगे कि आपका ऑक्सिजन सैचुरेशन लेवल कम हो रहा है, 90 के पास आ रहा है या आपको सांस में दिक्कत आ रही है, आप खुलकर सांस नहीं ले पा रहे हैं तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें। यह बहुत जरूरी है ताकि आपको समय पर इलाज मिल सकेगा और अगर भर्ती करने की जरूरत हुई तो समय से भर्ती हो सकेंगे।

अगर आप खुलकर सांस नहीं ले पा रहे हैं तो यह संभलने का वक्त है। लेकिन कई बार घबराहट की वजह से आपको लगता है कि आपको सांस लेने में दिक्कत हो रही है, इसलिए अपना ऑक्सिजन सैचुरेशन लेवल देखें। अगर यह 94 से कम हो रही है तो मेडिकल सपोर्ट लेने की जरूरत है। अगर छाती में एकदम दर्द हो रहा है या भारीपन हो रहा है तो मेडिकल एडवाइज की जरूरत है। अगर केयरगिवर यह देखता है कि मरीज सुस्त ज्यादा है, रिस्पॉन्ड नहीं कर रहा है, कन्फ्यूज लग रहा है, सही से जवाब नहीं दे पा रहा है, बच्चों में भी हम यह देखते हैं तो फिर आपको बिना देर किए मेडिकल सपोर्ट और एडवाइज लेने की जरूरत है। इन वॉर्निंग साइन्स को ध्यान रखना चाहिए।

कब होम आइसोलेशन खत्म किया जाना चाहिए?
पहली बार सिम्पटम आने के 10 दिन बाद होम आइसोलेशन खत्म कर सकते हैं। एसिम्प्टोमैटिक केस में जिस दिन टेस्ट के लिए सैंपलिंग हुई, उसके 10 दिन बाद होम आइसोलेशन खत्म कर सकते हैं। या फिर लगातार 3 दिनों तक बुखार न हो तब भी होम आइसोलेशन खत्म किया जा सकता है। अगर आपको छठे या सांतवें दिन के बाद से बुखार नहीं हुआ हो और आप 10 दिन पूरे कर लेते हो तब होम आइसोलेशन की जरूरत नहीं है।

होम आइसोलेशन से बाहर आने के बाद फिर टेस्ट कराने की कोई जरूरत नहीं है। माइल्ड और एसिम्प्टोमैटिक केसेज में सातवें-आठवें दिन तक वायरस मर चुका होता है या ऐसी स्थिति में नहीं होता कि किसी दूसरे को संक्रमित कर सके। वायरस कभी कभार आरटीपीसीआर में 2-3 हफ्तों तक रह सकता है। लेकिन वह डेड वायरस है, वायरस के पार्टिकल्स हैं जो टेस्ट में डिटेक्ट होते हैं। इसलिए टेस्ट करने की जरूरत नहीं है। अगर 10 दिन हो गए हों और आप एसिम्प्टोमैटिक हैं या फिर पिछले 3 दिनों से आपको बुखार न आया हो तो आप होम आइसोलेशन से बाहर आ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here