चंपावत उपचुनाव: मुख्यमंत्री पुष्कर धामी के सामने कांग्रेस ने गहतोडी को बनाया प्रत्याशी

0
73

इसी सीट से दो बार विधायक रहे हेमेश खर्कवाल ने पहले ही उपचुनाव लड़ने से हाथ खड़े कर दिए थे

देहरादून। कांग्रेस पार्टी ने चंपावत उपचुनाव के लिए अपने प्रत्याशी की घोषणा कर दी है। पार्टी में मचे घमासान के बीच कांग्रेस ने आज चंपावत उपचुनाव में ऐसे कमजोर प्रत्याशी को उतारा है। जिसके लिए कहा जा रहा है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को वाक ओवर दे दिया गया है।

इसी सीट से दो बार विधायक रहे कांग्रेस के हेमेश खर्कवाल ने पहले ही चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया था। ऐसे में कांग्रेस ने चंपावत की पूर्व जिलाध्यक्ष और पूर्व राज्य मंत्री निर्मला गहतोड़ी के नाम की आज विधिवत घोषणा कर दी है। देखना है कि निर्मला गहतोड़ी पुष्कर सिंह धामी के सामने किस प्रकार संघर्ष कर पाती हैं और क्या कांग्रेसी सीट पर जमानत बचा पाएगी इस पर भी सबकी निगाहें रहेंगी।

पुष्कर सिंह धामी के सामने निर्मला गहतोड़ी को उतारना उसी प्रकार प्रतीत हो रहा है जिस प्रकार प्रकाश पंत की मौत के बाद खाली हुई सीट पर मयूख महर की जगह अंजू देवी को निश्चित हार के लिए उतारा गया था। हालांकि उन्होंने अंजू लुंठी लाकर अपनी ताकत का एहसास कराया लेकिन जब 2022 का चुनाव आया तो अंजू की जगह कांग्रेस ने मयूख महर को ही टिकट दे डाला इस सीट पर अभी आम आदमी पार्टी ने पत्ता नहीं खोला है। यह वही पार्टी है जिसने तीरथ सिंह रावत के दौर में चुनाव की घोषणा होने से पहले ही तीरथ सिंह को चुनौती दी थी कि उनके सामने गंगोत्री में लड़ने के लिए कर्नल कोठियाल मैदान में उतार दिया था। अब देखना है कि क्या आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक बाली पुष्कर सिंह धामी के सामने चुनाव लड़कर अपनी पार्टी का वही टेंपरामेंट बरकरार रखते हैं।

पिथौरागढ़ और चंपावत से पहले कांग्रेस पार्टी ऐसा ही प्रयोग सल्ट में कर चुकी है। जब वहां पर हारने के लिए गंगा पंचोली को मैदान में उतारा गया था। गंगा पंचोली जब स्वर्गीय सुरेंद्र सिंह जीना के भाई महेश जीना से हार गई तो अगली बार 2022 के चुनाव में गंगा पंचोली की बजाय रंजीत रावत को मैदान में उतारा गया। और आखिरकार रंजीत रावत भी चुनाव हार गए। अब देखने वाली बात यह होगी कि लगातार दुर्गति की ओर बढ़ती कांग्रेस और क्या कदम उठाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here