दुखद: हरिद्वार से गंगाजल लेकर लौट रहे शिवभक्तों को बेकाबू डंफर ने कुचला, 6 की मौत

0
66

नई दिल्ली। हरिद्वार से गंगाजल लेकर लौट रहा कावड़ियों का एक जत्था उत्तर प्रदेश के हाथरस में बेकाबू डंपर की चपेट में आ गया जिसमें 6 कांवड़ यात्रियों की दर्दनाक मौत हो गई है। हाथरस में एक बेकाबू डंपर ने कांवड़ियों को कुचल दिया। इस हादसे में 6 कांवड़ियों की मौत हो गई। हादसे में घायल एक कांवड़िए को आगरा रेफर किया गया है। ये सभी हरिद्वार से गंगाजल लेकर मध्य प्रदेश के ग्वालियर जा रहे थे। इस हादसे में मरने वाले कांवड़ियों की पुलिस ने पहचान कर ली है।

पुलिस के अनुसार कुल 7 कावंड़िए इस दुर्घटना की चपेट में आए थे। जिनमें 5 भक्तों की मौके पर ही मौत हो गई थी और एक ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। फिलहाल एक का इलाज चल रहा है। ​​​​​​डीएम रमेश रंजन ने सभी मृतक कांवड़ियों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

22 लोग एक साथ लेकर जा रहे थे जल
आगरा जोन के एडीजी राजीव कृष्ण ने घटना की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि, रात 2 बजे श्रद्धालुओं को एक डंपर ने रौंद दिया। जिसमें 6 की मौत हो गई है। एक भक्त घायल है। जिसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। कांवड़ियों को रौंदने के बाद डंपर मौके से फरार हो गया। फिलहाल, पुलिस डंपर ड्राइवर की तलाश में जुटी है। 42 लोगों का जत्था एक साथ जल लेकर जा रहा था।

इस दुखद हादसे पर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद हाथरस में सड़क हादसे में हुई 6 कांवड़ियों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। दुर्घटना के बाद फरार डंपर मालिक को हाथरस पुलिस ने ट्रेस किया है।

320 किमी का तय कर चुके थे सफर
घटना की जानकारी कांवड़ियों के साथी बंटी चेकूर ने दी। बताया कि “हरिद्वार से कांवड़ लेकर अपने गांव बहांगी खुर्द जिला ग्वालियर जा रहे थे। हमारे साथ 22 लोगों का जत्था था। हर कांवड़िये के साथ तीन लोग चलते हैं। बाकी लोग हाथरस चौराहे पर सो रहे थे।

उसी दरम्यान पीछे से एक तेज रफ्तार डंपर आया और उन्हें रौंदते हुए निकल गया। हमारे पास इतना वक्त नहीं था कि हम खुद को बचा सकें। हम लोग 320 किमी का रास्ता तय कर चुके थे। हमे बस 170 किमी और चलना था। लेकिन इतना दर्दनाक हादसा हो गया। हादसे को देखकर हमारी रूह कांप गई। हमने अपने 6 साथियों को खो दिया। किसी ने नहीं सोचा था कि घर पहुंचने से पहले यह हादसा हो जाएगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here