अबकी बार 400 पार. नारे हैं नारो का क्या! पिछले आंकड़ों पर एक नज़र

0
26

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में इस समय जो नारा सबसे ज्यादा चर्चा में है वह भाजपा द्वारा दिया गया अबकी बार 400 पार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह नारा देकर भाजपा के मंसूबो को साफ कर दिया कि सियासत में मोदी का यह दांव विपक्ष को बैकफुट पर लाने के लिए चला गया है और भाजपा इसमें सफल भी होती हुई दिख रही है। हालांकि कांग्रेस नेता राहुल गांधी शुरू से ही इस नारे को झूठा बता रहे हैं। पहले राहुल भाजपा को 180 सीट मिलने की बता रहे थे जबकि अब भाजपा को 150 सीटों पर सिमटा हुआ बता रहे हैं। राहुल गांधी के अलावा पूरा विपक्ष ही भाजपा के 400 पर के नारे की कोई भी काट नहीं निकाल पा रहा है और इसी पिच पर खेलने के लिए मजबूर है।

प्रधामनंत्री नरेंद्र मोदी अपनी इस चाल से मतदान से पहले ही राजनीतिक बढ़त बनाने में सफल होते दिखाई पड़ रहे हैं जनता से लेकर देश के मीडिया हर जगह मोदी के 400 पार की ही चर्चा जोरो शोर से हो रही है। चर्चा इस पर नहीं हो रही है कि भाजपा को कितनी सीटें मिलेगी बल्कि बहस 400 पार के दावे पर ही हो रही है। इतना ही नहीं विपक्ष भी खुद भाजपा के 400 पार के इस जाल में फंसा हुआ दिखाई देता है और उसके नेता भी 400 पर के नारे में ही उलझे हुए हैं।

जमीन पर यदि देखा जाए तो मोदी अपने 400 पार से भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने में सफल होते दिखाई दे रहे हैं। लेकिन यदि इतिहास में झांका जाए तो भाजपा की ट्रिक की सच्चाई कुछ अलग ही नजर आती है। इससे पहले भी भाजपा ने कई राज्यों के विधानसभा चुनाव के दौरान इस प्रकार के नारे दिए हैं। लेकिन रिजल्ट आते-आते वह हकीकत से कोसों दूर हो गए। मतदाता ऐसे नारों को कैसे फुस्स करते हैं यह पिछले कुछ राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के आंकड़े बताते हैं।

हिमाचल प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नारा दिया था कि
अबकी बार 45 पार
परंतु सीट मिली मात्र 25

ऐसे ही पश्चिम बंगाल में नारा दिया था
अबकी बार 200 पार
परंतु सीट मिली 77

इसी प्रकार हरियाणा चुनाव में भी भाजपा ने नारा दिया था
अबकी बार 75 पार सीट मिली थी 40

ऐसे ही झारखंड विधानसभा चुनाव में भी
भाजपा ने 65 पार का नारा दिया था
परंतु सीट मिली 25

इसी प्रकार दिल्ली के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नारा दिया था
इस बार 45 पार
लेकिन सीट मिली कुल आठ

तमिलनाडु में भी
118 पार का नारा बीजेपी द्वारा दिया गया था
परंतु सीट मिली कुल चार

इसी प्रकार मिजोरम में भाजपा का नारा था 21 पार
सीट मिली कुल चार

2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा था अबकी बार 150 के पार
सीट मिली थी 99

2018 के विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ में भाजपा का नारा था
अबकी बार 50 पार
सीट मिली थी कुल 15

इन आंकड़ों से एक बात तो बिल्कुल साफ हो जाती है कि जितने का नारा दिया गया उस अनुपात में सीटें कभी नहीं आई। देखने वाली बात होगी कि 4 जून को आने वाले चुनावी नतीजों का क्या सार निकलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here