GDP आंकड़ा जारी, जुलाई-सितंबर तिमाही में ग्रोथ रेट -7.5%, बीते तिमाही से बेहतर

0
305

www.astitvatimes.com

केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही के आंकड़े जारी कर दिये हैं। दूसरी तिमाही में देश की जीडीपी -7.5 फीसदी रही है. हालांकि ये आंकडे अप्रैल-मई-जून तिमाही के मुकाबले काफी बेहतर हैं. लेकिन लगातार 2 तिमाही में नैगेटिव ग्रोथ को तकनीकी तौर पर मंदी माना जाता है।

गौरतलब है कि पिछले 40 साल में पहली बार जीडीपी में इतनी कमी आई है जिसके चलते आंकड़ों पर सबकी नजरें टिकी हुई थीं।

भले ही जीडीपी में गिरावट पिछली तिमाही से कम हो लेकिन लगातार 2 तिमाही जीडीपी में कमी आने से देश मौजूदा वित्त वर्ष की पहली छमाही में टेक्निकल रिसेशन के दौर में चला गया है. यानी सरकार ने आधिकारिक तौर पर मंदी को स्वीकार कर लिया है. हालांकि, भारतीय रिजर्व बैंक गवर्नर समेत दुनिया भर की रेटिंग एजेंसी का मानना है कि भारत की विकास दर आने वाले समय में बेहतर हो जाएगी. अगर पहली तिमाही की बात की जाए तो सकल घरेलू उत्पाद में 23.9 फीसद की ऐतिहासिक गिरावट हुई थी।

मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के GDP आंकड़े -7.5% रहे, जबकि रेटिंग एजेंसियों ने इन आंकड़े का -8.9% रहने का अनुमान लगाया गया था. दूसरी तिमाही के GVP आंकड़े -7%, जबकि इन आंकड़ों का -8.6 रहने का अनुमान लगाया गया था. वहीं एग्री सेक्टर ग्रोथ 3.4% रहा, जबकि एग्री सेक्टर ग्रोथ 3.9% रहने का अनुमान लगाया गया था. इस लिहाज से दूसरी तिमाही के आंकड़े काफी बेहतर हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगले वित्त वर्ष में ये आंकड़ा सकारात्मक होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here